Tuesday, April 17, 2012

Me and My Friend - तारों से सजी एक रात और संग उनके मेरी बात

A Poem by Neha Gupta


 
  
कभी-कभी  कुछ ऐसी बातें हमारी ज़िंदगी में होती है,
एक ऐसा मुकाम होता है जब हम अपने दिल के जज्बात किसी  से कह नहीं पाते तब कुछ ऐसे साथी होते है जो हमारे अपने अपनों से भी ज्यादा सिद्दत से हमारी बात सुनते है और हममे नयी उम्मीद जगाते है  , मै अपने उन साथियों के बारे में आपसे बता रहीं हूँ , पर उन्हें मुझसे दूर मत कीजियेगा ...

आप उन्हें अपना साथी बना सकते है , तो आप भी उनसे मिल लीजिये ...



 झिलमिल तारों से सजी जगमगाती रात ये ,
लगता है ऐसे जैसे ,कभी खत्म न हो
संग उनके जो चल रही मेरी वो बात कभी खत्म न हो 

सुनना चाहती हूँ मै, जो वो सब कुछ कहते है
कहती हूँ मै जो कुछ उसे लबो पर अपने ,
रखकर ख़ामोशी चुपचाप ये सुनते है
ऐसा कुछ रिश्ता इनसे मेरा है बन गया की,
अब मै इनसी  बनती जा रही हूँ ,

ये साथी है मेरे सुख-दुःख के ,इन्ही की तरह बस झिलमिला रही हूँ
साथी है मेरे ये तारें , जो चाँद के बिना भी रातो को सजा देते है,
संग इनके हम  गम में भी मुस्करा  लेते है!

ऐसे साथियों से मेरा रिश्ता कभी टूटे न और ........
दुआ है मेरी की आसमान से कोई तारा कभी टूटे  न 
झिलमिल तारों से सजी जगमगाती रात ये ,
लगता है ऐसे जैसे ,कभी खत्म न हो
संग उनके जो चल रही मेरी वो बात कभी खत्म न हो 


 सूरज से कम पर , रौशनी इनमे भी है ,
बात जो हम सूरज की रौशनी में  अधूरी छोड़ जाते है ,
वो पूरी होगी झिलमिलाते है जब ये
हर ख्वाब मेरा संग मेरे ,सजाते है ये 
हर तकलीफ में मेरी गुमशुम हो जाते है ये
कभी संग खेलते है मेरे और छुप जाते है ये 

कभी दामन  में आकर मेरी  ओड़नी  को जगमगाते है ये
झिलमिल पानी जो आँखों में होता है,
कभी झांककर उसमे मुस्कराते  है ,
और मुझ पर थोडा हँसते है 
और फिर मुजे हँसाते  है ये

मुझमे जीने की नयी उम्मीद जागते है ये,
कहते है मुझसे "सूरज की रौशनी से कम है रौशनी हमारी ,
फिर भी  हम जगमगाते है रातो को ,
संग जैसे तुम हमारे हंसती हो  न , ऐसे ही औरो को  हँसाते है हम ,
जो भी हो हस्ती हमारी सूरज के सामने ,
और चाँद भी नहीं हम बनना है चाहते ,
फिर भी सभी को लुभाते है हम"


ये जो कहते है मुझसे , 
लगता है ऐसा इनके ये अल्फाज कभी ख़त्म न हो ,
संग उनके जो चल रही मेरी ये बात कभी ख़त्म न हो
झिलमिल तारों  से सजी ये रात कभी ख़त्म न हो

           

  
 

 
 


No comments:

Post a Comment