Monday, April 30, 2012

Reservation Quota

अब तक मैंने आपसे दिल से दोस्ती तक, किसी की यादो में गुम  होने की , किसी की यादो में बस जाने की बात की पर आज बात थोड़ी अलग है admission process शुरू होनेवाले है, और इसे लेकर आज मन थोडा खफ़ा  सा है शायद  मेरे ये जज्बात हर उस स्टुडेंट के होंगे जो इस reservation quota नाम की बीमारी का शिकार हो चुका  होगा. जब हमारी आँखों के सामने हमारा हक  बड़ी ही आसानी से reservation quota  के नाम पर हमसे छिनकर किसी नाकाबिल के हाथो में थमा देते है और तो और चलिए reservation quote  में भी गफलत वहा भी जो deserving student है, उसे छोड़कर शिफारिश के बल पर low percentage student को preference दी जाती है यहाँ पे मुझे महसूस होता है की शियासत और शिफारिश दोनों ही चलती है और जो इसे चलाते है उनका होना एक गलती है ...........so आज की ये कृति dedicated है ऐसे ही कुछ महानुभावो को और अगर आप मेरे विचारो से सहमत है तो अपने विचार (comments)मुझे जरुर बताये ....................



शियासत हमे करनी आती नहीं, 
हम शियासत को क्या समझे ?

किसी गरीब के अरमानो से,
 जेब अपनी भरनी आती नहीं !
शियासती  नीतियों को क्या समझे ??

भ्रष्ट  का मतलब है क्या ?
ये हमने जाना बस कुछ ...


दाखिले के समय पर ,
Reservation Quota के नाम पर ...
कैसे सपने कितनो के,
ठग लिए जाते है !


आरक्षण के नाम पर ,
जिन्हें मिलता है आरक्षण ,
कही देखा है उन्हें देश
सही से चलाते  हुए ??


भई हमने तो देखा उन्हें ,
बस कुर्सी के लिए लड़ते झगड़ते हुए ....
आरक्षण जिन्हें चाहिए,
उन्हें मिला नहीं  !!


तो आरक्षण को क्या समझे ??
शियासत हमे करनी आती नहीं ...
हम शियासत को क्या समझे ??
  


1 comment:

  1. Well done Neha!

    Reservation based on casteism,
    Is a complex situation...
    An Imperfect solution,
    To the problem of education.

    ReplyDelete